शरद पांडेय-नारी संवेदनाओं का चितेरा

■ भूपेंद्र कुमार अस्थाना नारी भावों को अत्यंत खूबसूरती से अपने चित्रों में शरद पांडेय ने बखूबी उतारा है। वे अपने चित्रों में नारी को केंद्रीय पात्र बनाकर मार्मिक दृश्य सूत्र प्रस्तुत करने की कोशिश करते थे। चित्रों में आशा भरी नज़रें, इंतज़ार करती महिलाओं के भावों को मुख्य रूप से अपने चित्रों में स्थान देते थे। इनकी भूरे रंग की प्रधानता लिए चित्र मुख्य रूप से एक अलग प्रभाव छोड़ते हैं। इसके साथ ही लाल तथा हरे रंग का प्रयोग भी कहीं पीछे नहीं है। उनका भी अपना एक…

Read More

नहीं रहे सनत कुमार चटर्जी

-भूपेन्द्र कुमार अस्थाना वरिष्ठ चित्रकार सनत कुमार चटर्जी (18 अक्टूबर 1935-11 अप्रैल 2017) नहीं रहे । वे 82 वर्ष के थे। आज शिमला में सुबह 10:30 बजे अंतिम सांस ली। उनका जन्म लखनऊ 18 अक्टूबर 1935 को हुआ था। उनके पुत्र हिम चटर्जी से पता चला कि वे काफी दिनों से अस्वस्थ चल रहे थे । उनका नाम “गिनीज़ बुक आफ रिकॉर्ड ” में भी शामिल है। उन्होंने लखनऊ आर्ट कॉलेज से वर्ष १९६१ में ललित कला में डिप्लोमा प्राप्त किया। वे उत्तर प्रदेश राज्य ललित कला अकादमी एवं अन्य…

Read More

अंतिम श्वांस तक कला में काम करते रहे नन्द किशोर खन्ना

ललित कला अकादमी में कलाकारों ने दी श्रद्धांजलि अपने जीवन को अंतिम श्वांस तक कला के क्षेत्र में लगा देने में ही एक कलाकार अपने जीवन की सार्थकता समझता है । रचनाधर्मी बनकर कला रचता है,उसके जरिए समाज को बदलने की भी क्षमता रखता है। तभी तो उसके साकार रूप में न रहने पर दुनिया उसे वर्षों वर्ष तक भूल नहीं पाती। उसकी कलायात्रा किसी न किसी रूप में लोगों के सामने आती रहती है। उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ चित्रकार एवं कला समीक्षक नन्द किशोर खन्ना भी अंतिम श्वांस तक…

Read More