जयन्तिका को एमएस सुब्बुलक्ष्मी फेलोशिप

वाराणसी के सुपरिचित शास्त्रीय-उपशास्त्रीय गायक देवाशीष दे की पुत्री एवं शिष्या जयन्तिका दे को  मुम्बई की संस्था शण्मुखानन्द सभा की ओर से अत्यंत प्रतिष्ठापरक एम० एस० सुब्बुलक्ष्मी फेलोशिप के तहत एक लाख रुपए प्रदान किए गए हैं।उल्लेखनीय है कि जयन्तिका को गत वर्ष भी एक लाख रुपये का पुरस्कार दिया गया था । जयन्तिका पिछले वर्ष की भांति इस वर्ष की पुरस्कार की धनराशि को शिल्पायन के विभिन्न सांगीतिक गतिविधियों में खर्च करना चाहती है।

Read More

इस रंगमंच पर भी तुम अनूठे हो पापा!

ग्रूशा कपूर सिंह प्रसिद्ध रंगकर्मी रंजीत कपूर को हिन्दी रंगमंच का राजकपूर कहा जाता रहा है। उनके प्रशंसकों का दायरा कई पीढ़ियों तक फैला है। अगर ऐसा न होता तो उनसे उनके 1977 के नाटक ‘बेगम का तकिया’ को तीन दशकों से अधिक समय बाद पुनर्जीवित करने का अनुरोध आखिर क्यों होता है? रंगमंच का उनका अपना मुहावरा है लेकिन कम ही लोग जाते हैं कि उनका जीवन कितना संघर्षों भरा, उबड़-खाबड़ रास्तों से होकर गुजरा है। ये संघर्ष उनके पेशे के भी रहे हैं और पारिवारिक भी। उन्हें आज…

Read More

धारा के विरुद्ध चलने वाला नाटककार

सामाजिक-सांस्कृतिक संस्था ‘अलग दुनिया ‘ व भारतेंदु नाट्य अकादमी के संयुक्त तत्वावधान मे दिनांक 19 मार्च 2017 को भारतेंदु नाट्य अकादमी, लखनऊ के बी ऍम शाह प्रेक्षागृह में आयोजित समारोह में वरिष्ठ नाट्य लेखक राजेश कुमार को दूसरा जुगल किशोर स्मृति पुरस्कार दिया गया । समारोह की अध्यक्षता कर रहे भारतेंदु नाट्य अकादमी के पूर्व निदेशक राज बिसरिया ने कहा कि रंगमंच विचार से बनता है, यह वेशभूषा की नुमाइश नहीं है। चाहे आप रंगमंच के किसी भी रूप में काम कर रहे हो, लेकिन रंगमंच का विचारात्मक होना जरूरी…

Read More