भारत मेरा दूसरा घर

अमित कल्ला से इनसंग सांग दक्षिण कोरिया के क्यूरेटर इनसंग सांग से मिलना हमेशा ही मन को एक अलग अहसास देता रहा है, दृश्य कलाओं के प्रति उनकी दीवानगी को विभिन्न कला उत्सवों में उनके जयपुर आने के दौरान अक्सर करीब से देखता रहा हूं | दो वर्ष पहले उनके साथ लम्बी यात्राओं के भी अवसर आए, तब कला की संजीदगी के अलावा जीवन के प्रति उनके विनम्र स्वभाव और मन की धीरता को देखकर मैं उनका कायल हो गया | सांग अपने आप में जिन्दगी से दो-दो हाथ करते…

Read More

संगीत का संकटमोचन

आलोक पराड़कर (राष्ट्रीय सहारा, 26 अप्रैल 2020) इन पंक्तियों को लिखने में तो अब कोई नई बात नहीं है कि कोरोना संकट से पूरे विश्व में जिस प्रकार उथल-पुथल मच गई है, उसमें हम बहुत सारे नए परिवर्तनों को देख ही रहे हैं। बहुत कुछ बदल रहा है, बदल चुका है। लोग घरों में हैं, रोजगार-व्यापार बंद हैं, सड़कें वीरान पड़ी हैं और उन सारे अवसरों, आयोजनों का निषेध किया जा रहा है, जहां लोगों का जमावड़ा होता रहा है या हो सकता है। लेकिन यह जरूर हुआ है कि…

Read More