……फिर छलकी मधुशाला

 पूनम किशोर की चित्रों की प्रदर्शनी जहाँगीर आर्ट गैलरी मुम्बई में शुरू —- -भूपेंद्र कुमार अस्थाना —- “चित्रकार बन साकी आता लेकर तूली का प्याला, जिसमें भरकर पान कराता वह बहु रस-रंगी हाला, मन के चित्र जिसे पी-पीकर रंग-बिरंगे हो जाते, चित्रपटी पर नाच रही है एक मनोहर मधुशाला।।४२।” -(मधुशाला / भाग ३ / हरिवंशराय बच्चन)     कलाकार वही जो अपनी कल्पनाओं को अपनी कला के माध्यम से साकार रूप प्रदान करता है। प्रत्येक कल्पनाशील व्यक्ति कलाकार नही हुआ करता।  कलाकार किसी चीज को बनाने के पहले उसे अपने…

Read More