उपेक्षा का शिकार एक महान कलाकार की कलाकृति

 कला संस्कृति, संरक्षण,स्वच्छता के नाम पर लगातार बजट पास होते जा रहे है। लेकिन उसका असर उसका परिणाम हम सभी को ज्ञात है। तमाम कला कृतियाँ उपेक्षा का शिकार हुए जा रही हैं। रवींद्रालय चारबाग लखनऊ उत्तर प्रदेश के भवन पर बने इस महान कलाकार की कृति को देखिए।किस प्रकार स्थिति है। घास फूस उग रहे हैं। काई जैसी चीजें पनप रही हैं। इस स्थिति को देखकर यही लगता है कि कुछ दिनों में हम इस कृति को खो देंगे यदि जल्दी ही ध्यान नही दिया गया तो। यह बहुत…

Read More

……फिर छलकी मधुशाला

 पूनम किशोर की चित्रों की प्रदर्शनी जहाँगीर आर्ट गैलरी मुम्बई में शुरू —- -भूपेंद्र कुमार अस्थाना —- “चित्रकार बन साकी आता लेकर तूली का प्याला, जिसमें भरकर पान कराता वह बहु रस-रंगी हाला, मन के चित्र जिसे पी-पीकर रंग-बिरंगे हो जाते, चित्रपटी पर नाच रही है एक मनोहर मधुशाला।।४२।” -(मधुशाला / भाग ३ / हरिवंशराय बच्चन)     कलाकार वही जो अपनी कल्पनाओं को अपनी कला के माध्यम से साकार रूप प्रदान करता है। प्रत्येक कल्पनाशील व्यक्ति कलाकार नही हुआ करता।  कलाकार किसी चीज को बनाने के पहले उसे अपने…

Read More

सिरेमिक त्रिनाले में यूपी

उत्तर प्रदेश के दो सिरेमिक कलाकार सितांशु जी मौर्य लखनऊ तथा त्रिवेनी तिवारी भदोही की कलाकृति कंटेम्पररी क्ले फाउंडेशन द्वारा आयोजित दिनांक 31 जुलाई से 18 नवंबर 2018 तक   चलने वाले जवाहर कला केंद्र जयपुर में “इंडिया सिरेमिक त्रिनाले– ब्रेकिंग ग्राउंड ” में प्रदर्शित किया गया है। वर्तमान में शितांशु ललित कला अकादमी के क्षेत्रीय केंद्र कोलकाता में सिरामिक सुपरवाइजर के रूप में कार्यरत हैं। और लगातार सेरेमिक विधा में कार्य भी कर रहे हैं। तथा त्रिवेनी सेरेमिक विधा में दिल्ली में स्वतंत्र कलाकार के रूप में कार्य कर रहे…

Read More