चित्रों में प्रकृति और स्त्रियां

– भूपेंद्र कुमार अस्थाना  प्रकृति में ऐसे दृश्य देखने को मिलते है जिसे एकटक देखते ही बनता है। उससे प्राप्त सौंदर्य और आनंद से मन पुलकित हो जाता है।देखते सभी है प्राकृतिक दृश्य को लेकिन कुछ अभिव्यक्ति करते है अपने विशेष माध्यम से। उसी आनंद को लोगो को भी देना चाहते है। एक चित्रकार अपने चित्राभिव्यक्ति से वही आनंद देने का प्रयास करता है। हालांकि कुछ अपने मानवीय कल्पना और भावना के आधार पर चित्र का निर्माण करते है, उनका सौंदर्य, आनंद या प्रभाव भी कुछ कम नही होता प्राकृतिक…

Read More

देवास में बना कुमार गंधर्व द्वार

 हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत में अपने ढंग के अनूठे गायक पं.कुमार गंधर्व को स्थानीय प्रशासन ने श्रद्धांजलि अर्पित की है। इस विख्यात गायक की स्मृति में देवास में उनके घर के निकट भव्य द्वार का निर्माण किया गया है। उनकी बेटी और प्रसिद्ध गायिका कलापिनी कोमकली ने इसका उल्लेख करते हुए अपनी फेसबुक वाल पर लिखा है- अब जब भी आप  हमारे घर ‘भानुकुल’देवास पधारना चाहेंगे, हम आपसे कह सकेंगे कि आगरा मुम्बई मुख्य मार्ग से देवास में प्रवेश करें और केवल एक बार बाएं मुड़ें जहां ‘कुमार गन्धर्व द्वार’लिखा है,और थोड़ी…

Read More

भैरव से भैरवी तक की यात्रा

0 पूजा श्रीवास्तव सप्त सुरन, तीन ग्राम, उड़नचास कोटितान,    गुणीजन सब करत गान, नाद ब्रह्म जागे। सुर सम्राट तानसेन की इस उक्ति का अर्थ है कि गुणीजनों द्वारा सात सुरों ,तीन ग्राम और तानों के उन्चास प्रकार के स्वरबद्ध गान से नाद ब्रह्म की उत्पत्ति होती है। ऐसा माना जाता है भारतीय शास्त्रीय संगीत केवल स्वरों का आरोह अवरोह नहीं बल्कि ध्यान की ,अध्यात्म की एक प्रक्रिया है। जन्म तो हम सब एक जीव के रुप में लेते हैं लेकिन हमें मनुष्य बनाते है हमारे संस्कार और हमारा समाजीकरण।…

Read More